Real Horror Story In Hindi | Hindi Kahani

Real Horror Story In Hindi

Hello doston agar aap Real Horror Story In Hindi search kar rahe hain to swagat hai aapka hamari is post mein. Aaj hum aapke liye lekar aaye hain Mussoori ke ek hotel ki True Horror Story in Hindi jo aapko zaroor achambhit kar degi aur sochne pe majboor kar degi, ki is duniya mein kuch anjaani andekhi cheezein maujood hain jo ek aam insaani dimaag ki soch ke bhi pare hain to chaliye shuru karte hain aaj ki Real Horror Story In Hindi aur dekhte hain kya hua us raat…

Real Horror Story In Hindi

Real Horror Story In Hindi दोस्तों आज हम आपको बताने वाले है दास्तां एक के बाद एक पेचीदा मौतों की, दास्तां डर के सायें में लिपटी एक हवेली की, दास्तां उस किस्से की जिसके बारे में एक समय लोग बात करने में सहम जाते है, दास्तां एक होटल की और वहा अपने कातिलों को तलाश करती एक प्रेत आत्मा की, दास्तां एक समय मसूरी की एक आलिशान होटल, होटल “सेवॉय” की तो चलिए शुरू करते हैं आज की ये Real Horror Story In Hindi

यह कहानी है मसूरी की एक होटल की जिसका नाम है होटल “सेवॉय” इस जगह को बेहद शापित और बुरे सायों से घिरा हुआ मानते है और साल की कुछ चुनिंदा रातों में जब पूरा मसूरी शोरगुल और जशन में डूबा हुआ होता है, तब ये वीरान इमारत एक बार फिर गुलज़ार हो जाती है|
होटल के 121 कमरों में घूमने लगता है एक अनजान सायाँ मानो वो इस जगह पसरी ख़ामोशी में कुछ टटोलने की कोशिश कर रहा हो |
उस अनजान साये की आहात कभी होटल के कमरों के महसूस होती या फिर वो सायाँ हमेशा खुली रहने वाली उन खुड़कियों से झांकता हुआ दिखाई देता है | दरअसल आज का मसूरी होटल एक समय में “रेम मेडाक्स” स्कूल हुआ करता था, जिसे 1895 में लखनऊ के बैरिस्टर “सेहसील डीन लिंकन” ने खरीद लिया था और मेडेक्स स्कूल को एक आलिशान होटल में तब्दील कर दिया और उसका नाम रखा गया होटल “सेवॉय” जिसमे 121 कमरे, आलिशान बॉलरूम, टेनिस कोर्ट और खुदा का पोस्ट ऑफिस भी था | ये होटल उस समय के रईसों का पसंदीदा अय्याशी का अड्डा हुआ करता था | (Real Horror Story In Hindi)

सन 1911 में एक 49 वर्षीय ब्रिटशि महिला “फ़्रेन्सेस डरनेटऔर्म ” अपनी एक और साथी के साथ इस होटल में ठहरी। बताया जाता है की लेडी और्म पेशे से एक स्प्रेटुअलिस्ट थी और्म के साथ आयी दूसरी महिला अगले ही दिन चली गयी और 3 दिन बाद “डरनेटऔर्म” बेहद रहसयम तरीके से अपने कमरे में मृत पायी गयी| पोस्टमार्टम से पता चला की “डरनेटऔर्म” को किसी ने ज़हर देकर मारा था एक ऐसा ज़हर जो कलर लेस्स होता है जिसका नाम है “हाइड्रोजन साइनाइड” पोस्टमार्र्टम से ये भी पता चला की “डरनेटऔर्म” की मृत्यु 2 दिन पहले ही हो गयी थी लेकिन फिर भी उनकी लाश एक दम ताज़ी थी और पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक उनका कमरा अंदर से बंद था यानी की उनके कमरे में कोई नहीं आया था लेडी “डरनेटऔर्म” की मौत के कुछ दिन बाद ही उस डॉक्टर की भी रहस्य्मय तरीके से मौत हो गयी जिसने लेडी “डरनेटऔर्म” का पोस्टमार्टम किया था और उसके बाद लेडी “डरनेटऔर्म” के लिए पेंटिंग करने वाले पेंटर की भी रहस्यमय तरीके से मौत हो गयी। इन तीनो ही मौतों में तीन बेहद ही विषैले ज़हर का प्रयोग किया गया इन तीनो मौतों का खुलासा कभी नहीं हो पाया और ये तीनो मौतें रहस्य ही बनकर रह गयी |

यह भी देखें:- गुड़गांव की चौंका देने वाली भूतिया घटना। 

उस दौर में इस होटल में झाकने और इस होटल का राज़ जानने की इज़ाज़त किसी को नहीं थी पर सवाल ये है ऐसा क्या होता था इस इमारत की ऊंची दीवारों के पीछे, जिसे दुनिया से छुपाया जाता था | इन मौतों के बाद ये कहानी और भी पेचीदा हो गयी क्योंकी इन मौतों के कुछ ही दिन बाद एक महिला का धुंधला सायाँ इस होटल के गलियारों में दिखयी देने लगा। एक दो लोगों ने नहीं बल्कि होटल स्टाफ और होटल के मेहमानो ने भी लेडी डरनेटऔर्म के साये को होटल में भटकते हुए देखा है और ये बात फुसफुसाहटों से हकीकत का रूप लेने लगी की होटल सेवॉय में लेडी डरनेटऔर्म की आत्मा ने अपना कब्ज़ा कर लिया है क्योंकी और्म की मौत के 3 साल के अंदर बहुत से लोग रहस्यमय तरीके से गायब हो चुके थे और कभी भी ये बातें होटल के बाहर नहीं जा सकी या होटल खुद ही इस राज़ को राज़ रखना चाहता था या कोई था जिसके डर से कोई कुछ नहीं कह पता था जो कोई भी उस होटल के राज़ को बाहर लेके जाता था उसका अंजाम सिर्फ मौत होती | (Horror story in Hindi)

कुछ ऐसा ही अनुभव सन 1988 में गुजरात से मसूरी आये रावल दंपत्ति का हुआ जब वे नया साल मानाने मसूरी के इस सेवॉय होटल में आके रुके वो दोनों आये तो अपने नए साल को यादगार बनाने थे लेकिन उन्हे नहीं पता था की 31 दिसंबर की वो रात उनके जीवन की सबसे भयानक और काली रात होने वाली थी | उस रात नए साल को मानकर ये दंपत्ति देर रात होटल पहुंचे तो होटल में काफी अँधेरा था और होटल में एक अजीब से खामोशी फैली हुई थी |

Real Horror Story In Hindi | Hindi Kahani
Real Horror Story In Hindi | Hindi Kahani

चन्द्रदास रावल जी की पत्नी अपने कमरे में चली गयी और वो खुद सिगरेट जलने के लिए सीढ़ियों पर ही रुक गए सीढ़ियों पर काफी अँधेरा था और जैसे ही चन्द्रदास ने माचिस जलाई उस थोड़े से उजाले में उनको सीढ़ियों पर एक धुंधला सा सायाँ दिखयी दिया जिसे देखकर चन्द्रदास हक्के बक्के रह गए उनको इससे पहले ऐसी अनुभूति कभी नहीं हई, चन्द्रदास तुरंत वहाँ से भाग खड़े हुए और लड़खड़ा के सीढ़ियों से नीचे गिर गए जिससे उनकी आँख के पास एक गहरा कट लग गया जहाँ से तेजी से खून बह रहा था और एक बार फिर वो सायाँ चन्द्रदास के सामने था और तेजी से उसकी तरफ बढ़ रहा था और अचानक हवा में कहीं गायब हो गया।

चन्द्रदास को समझ आ गया की वो जो कुछ भी देख रहे है वो उनकी आँखों का धोखा नहीं बल्कि हकीकत है, चन्द्रदास बेहद घबराये हुए अपने कमरे में पहुंचे उनकी बीवी नेके जब उनसे उनकी घबराहट का कारन पुछा तो चन्द्रदास ने अपनी आपबीती बताते हुए अपनी आँख पर लगी चोट की तरफ इशारा किया लेकिन एक बार फिर चन्द्रदास हक्के बक्के रह गए क्युकी अब उनके चेहरे पर कोई चोट का निशान नहीं था लेकिन उनके हाथों पर अब भी खून लगा था ये सब देखकर चन्द्रदास बेहद घबरा गए उन्हें कुछ भी समझ नहीं आ रहा था | जो कुछ भी उनके साथ हुआ वो सब सच होते हुए भी उसपर विश्वास दिलाना चन्द्रदास के लिए मुश्किल हो रहा था जैसे तैसे डर और सिहरन में वो रात रावल दंपत्ति ने होटल में काटी और बाकि घटनाओ की तरह ही ये घटना भी होटल की चार दीवारों में कही दफ़न हो गयी |

इस घटना के बाद भी समय समय पर ऐसे लोग सामने आते रहे जिन्होंने होटल सेवॉय या उसके आस पास अजीब साये को देखा है लेकिन इस होटल का असल राज इस होटल की तरह की खामोश है बहोत समय तक खंडार रहे इस होटल को एक बार फिर रेनोवेट करके टूरिष्ट के लिए खोला गया और क्या पता वो साया अब भी इंतज़ार कर रहा हो अपने अगले शिकार या अपने असली कातिल का….


Hum Aasha Karte Hain Aapko Humari Aaj Ki Ye Horror story in Hindi Pasand Aayi Hogi. Agar Aap Aisi Hi Real Horror Story In Hindi Padhna Chahtein Hain To Hindilikh Website Ko Bookmark Kar Sakte Hai Ya Website Ko Subscribe Bhi Kar Sakte Hai. Hum Aisi Hi Horror story in Hindi Humari Website Par Publish Karte Rehte Hain.

1 thought on “Real Horror Story In Hindi | Hindi Kahani”

  1. Hello there, just became alert to your blog through Google,
    and found that it’s really informative.
    I’m going to watch out for brussels. I will
    be grateful if you continue this in future.
    Numerous people will be benefited from your writing.

    Cheers!

    Reply

Leave a Comment