दर्द भरी गज़ल – Sad Poetry In Hindi | Hindi Gazal

Sad Poetry In Hindi

आज हम आपके लिए लेकर आये हैं दिल को छू लेके वाली Sad Poetry In Hindi जो आपको यकीनन पसंद आएगी। Hindi Gazal सुनकर या पढ़कर दिल को बहुत सुकून मिलता है। अक्सर लोग सोचते हैं की कैसे कोई शायर इतनी गहरी बातें लिख लेता हैं। सच तो ये है की दर्द भरी गज़ल लिखने के लिए दिल में दर्द होना ज़रूरी है, शायरी सिर्फ आशिक़ ही करे ये ज़रूरी नहीं, ज़िन्दगी भी कुछ गम हसीं दे जाती है।

देखा ना गया – Hindi Gazal

मुझसे उसका जाना देखा ना गया
उसके बाद फिर ज़माना देखा ना गया
उसके होने वाले महफ़िल की जान होंगे
हमें फिर शहर में कभी देखा ना गया

उसके दिए हुए अब ज़ख़्म भरने लगे
चारासाज़ों से मेरा दर्द देखा ना गया
क़ैद हुए बैठे हैं सब अपनी क़िस्मत में
सुना है यहाँ कोई परिन्द देखा ना गया

बदल गयी है हवा अब मौसम ठंडा है
आशिक़ों में अब वो लावा देखा ना गया
जिसे छोड़ आए हम यादों के सहारे
हमसे अब वो खाली कमरा देखा ना गया

अब वो किसी और के हुजरे की शान है
मुझसे उसके माथे पर टीका देखा ना गया
जहन्नुम की देहलीज़ पर एक जान बैठी है
मुझसे मेरी रूह का तड़पना देखा ना गया

दूसरा प्यार – Hindi Kavita

खिले खिले नज़र आ रहे हो
तुम्हारा इंतज़ार पूरा हो गया क्या
इतनी बेरुखी से बात कर रहे हो
तुम्हें दूसरा प्यार हो गया क्या

कंगन के निशान गए नहीं अभी
हाथों से जिन्हें छुपा नहीं हो
मेरे बिना तो एक पल गवारा ना था
आज अकेले किधर जा रही हो

आँखें मिला कर जो हक़ जताती थी
आँखें चुरा कर क्या छुपा रही हो
ग़ुस्से को पल में मिटा देती हो
आज ख़ुद ग़ुस्सा क्यों दिला रही हो

मन भर गया था तो बता देती ना
ज़बरन क्यों रिश्ता निभा रही हो
मुझसे सीख कर मोहब्बत का हुनर
प्यार क्या है ये मुझे सीखा रही हो

खिले खिले नज़र आ रहे हो
तुम्हारा इंतज़ार पूरा हो गया क्या
इतनी बेरुखी से बात कर रहे हो
तुम्हें दूसरा प्यार हो गया क्या

तुम्हें दूसरा प्यार हो गया क्या
तुम्हें दूसरा प्यार हो गया क्या…

नहीं करते – Sad Poetry In Hindi

आने वाले जाने की बातें नहीं करते
जो बिछड़े तो फिर मुलाकातें नहीं करते
अच्छा यार मिलना भी रहमत से कम नहीं
अच्छे अच्छे दूरी का सफर नहीं करते

तुमको मुझसे इश्क़ कैसे हो सकता है
पत्थर में फूल ख़िला नहीं करते
बात मानों और भूल जाओ मुझे
अच्छे लोग बुरी ज़िद नहीं करते

तुम्हें क्या पता ये कैसी क़ैद है
इसमें आने वाले रिहा हुआ नहीं करते
बड़ी मुश्किल से दिल में जज़्बात आते हैं
आकर फिर ख्याल मिटा नहीं करते

ऐसा नहीं है हमें इश्क़ से कोई मसला है
फिर भी हम इश्क़ से इश्क़ नहीं करते
शायरों से किताबों में बड़ी बातें कहीं है
हम छोटे लोग हैं ऐसी बातें नहीं करते

मुझसे आकर कहना कोई बात हो तो
गैर तुम्हारी बातों पर गौर नहीं करते
ख़ामोशी से आवाज़ दबा लेना तुम
अपनी ही गलती पर शोर नहीं करते


यह भी देखें:-

पहला कदम (Hindi Kavita)
तुम मुझको कब तक रोकोगे (Hindi Kavita)
जो बीत गई सो बात गई (Motivational Kavita)


हम आशा करते हैं आपको हमारी आज की ये Sad Poetry In Hindi पसंद आयी होगी. अगर आप ऐसी ही Hindi Gazal पढ़ना चाहतें हैं तो Hindilikh Website को Bookmark कर सकतें हैं या Website को Subscribe भी कर सकतें हैं. हम ऐसी ही Hindi Poem, Hindi Kavita, Romantic Kavita In Hindi और Sad Poetry In Hindi हमारी Website पर पब्लिश करते रहतें हैं. Hindi Poem के अलावा Hindilikh Website पर आपको Hindi StoryHorror StoryRamayan Story In Hindi और Mahabharat Story In Hindi आदि भी आपको देखने को मिलेंगी आप चाहें तो इन्हें भी पढ़ सकतें हैं।

Leave a Comment