Top 4 Small Hindi Story For Kids In Hindi

Small Hindi Story For Kids

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस Blog में आज हम आपके लिए लेकर आए हैं Small Hindi Story For Kids In Hindi . बच्चों को ज्ञानवर्धक जानकारी देने का एक अच्छा ज़रिया है Hindi Kahaniyan जिससे आप बच्चो को अच्छे संस्कार दे सकते है वो भी मनोरंजक तरीके से। हम सभी दादी-नानी से राजाओं की, परियों की, पशु-पक्षियों की और भूतप्रेत,जिन्न आदि की कहानियां सुन-सुन कर बड़े हुए हैं।

बेशक आज ज़माना बदल गया है और इसलिए हम Digital तरीके से आपके लिए लेकर आए हैं Small Hindi Story For Kids In Hindi  और ये Hindi Kahaniyan आप कभी भी कहीं भी अपने Laptop, Mobile, Tablet आदि पर पड़ सकते हैं। Hindilikh एक ऐसी Website है जहाँ आपको न सिर्फ Hindi Kahani For Kids बल्कि इसके साथ आपको Bhutiya Kahani, Hindi Kavita और Mahabharat और Ramayan Ki Kahani जैसी अच्छी-अच्छी कहानियां पढ़ने को मिलेंगी। तो चलिए शुरू करते है आज की New Hindi Story For Kids और सीखते हैं कुछ नया इन Hindi Kahaniyon के ज़रिया।

न्यायी राजा (Education Story In Hindi)

राजा विक्रम अपनी न्यायप्रियता के लिए प्रसिद्ध थे। एक बार वे अपने लिए एक शानदार राजमहल बनवा रहे थे। राजमहल का नक्शा तैयार हो चुका था। पर एक समस्या आड़े आ रही थी। राजमहल के निर्माण – स्थान के पास ही एक झोंपड़ी के कारण राजमहल की शुभा नष्ट हो रही थी।

राजा ने झोंपड़ी के मालिक को बुलवाया। उन्होंने अपनी समस्या के बारे में झोंपड़ी के मालिक को बताया और झोंपड़ी के बदले मोटी रकम देने का प्रस्ताव उसके सामने रखा। पर झोंपड़ी का मालिक बहुत ही अड़ियल था।

उसने राजा से कहा ,”महाराज ,माफ करें ,आपका प्रस्ताव मुझे मंजूर नहीं है। अपनी झोंपड़ी मुझे जान से भी ज्यादा प्यारी है। इसी झोंपड़ी में मेरा जन्म हुआ था। मेरी पूरी उम्र इसी में गुजर गई। मैं अपनी इसी झोंपड़ी में मरना भी चाहता हूँ। ”

राजा ने सोचा ,’इस गरीब के साथ ज्यादती करना उचित नहीं है।’ उसने अपने मंत्री से कहा,”कोई हर्ज नहीं ! इस झोंपड़ी को यहीं रहने दो। जब लोग इस शानदार महल को देखेंगे ,तो वे मेरे सौंदर्यबोध की सराहना अवश्य करेंगे, तो मेरी न्यायप्रियता की भी प्रशंसा करेंगे।

शिक्षा*****

|| जिओ और जीने दो ||

घुमक्क्ड़ अमीर (Small Hindi Story For Kids In Hindi)

Small Hindi Story For Kids In Hindi
Small Hindi Story For Kids In Hindi

एक अमीर आदमी था। वह अकसर देश -विदेश की यात्रा किया करता था। इसलिये वह अधिकतर घर से बहार ही रहता था। जब कभी वह घर लौट कर आता ,तो आसपास के युवकों को एकत्र करता और उन्हें अपनी यात्रा के चित्र -विचित्र अनुभवों के बारे में बताता।

अकसर वह उन युवकों से पूछता :-
“क्या तुमने पेरिस का आयफेल टावर देखा है ?”
“क्या तुमने पिसा की झुकी हुई मीनार देखी है ?”
“क्या तुमने आगरा का ताजमहल देखा है ?”
“क्या तुमने दिल्ली की कुतुबमीनार देखी है ?”
वे लोग उसकी बातें सुन कर अवाक रह जाते !

हर बार उस घुमक्क्ड़ अमीर के सवालों के जवाब में युवकों के मुँह से यही निकलता ,”नहीं !”यह सुन कर अमीर कहता,”तुम लोग घर छोड़ कर बाहर कहीं गए ही नहीं !इसलिए तुम्हें जीवन का आनंद नहीं मिला। ”

एक दिन युवकों ने उस अमीर से कहा ,”क्या आप कभी शहर के कबाड़ी की दुकान पर गए हैं ? चलिए ,घुमा लाते हैं आपको !”
लड़के उसे ले कर कबाड़ी की दुकान पर पहुँचे। अमीर कबाड़ी की दुकान देख कर दंग रह गया। उसने देखा कि कबाड़ी की दुकान उसके घर कीमती सामानों से भरी पड़ी है। उसने कहा ,”अरे , मेरे घर की चीजें ,इस कबाड़ खाने में कैसे पहुँच गईं ?”

युवकों ने उसकी खिल्ली उड़ाते हुए कहा ,”आप तो मुश्किल से अपने घर पर होते हैं। इसलिए आप अपने पुरखों की गाढ़ी कमाई की चीजें इसी तरह लुटाते जा रहे है। ”

शिक्षा*****

|| समुचित देखभाल न करने पर घर की संपत्ति जाते देर नहीं लगती ||

यह भी देखें:- नमक का व्यापारी हिंदी कहानी
यह भी देखें:- कंजूस करोड़ीमल हिंदी कहानी

गड़ा खजाना (Education Story In Hindi)
Education Story In Hindi
Education Story In Hindi

एक बूढ़ा किसान था। उसके तीन बेटे थे। तीनों ही जवान और हट्टे -कट्टे थे। पर वे बहुत ही आलसी थे। पिता की कमाई उड़ाने में उन्हें बड़ा मजा आता था। मेहनत करके पैसे कमाना उन्हें अच्छा नहीं लगता था।

एक दिन किसान ने अपने बेटों को बुला कर कहा ,”देखो ,तुम लोगों के लिए मैंने अपने खेत में एक छोटा -मोटा खजाना गाड़ रखा है। तुम लोग खेत को खोद डालो और उस खजाने को निकाल कर आपस में बाँट लो। ”

दूसरे दिन बड़े सवेरे उस किसान के तीनों लड़के कुदालियाँ ले कर खेत पर पहुँच गए और खुदाई शुरू कर दी। उन्होंने खेत की एक – एक इंच जमीन खोद डाली। पर ,उन्हें कहीं भी खजाना नहीं मिला।

अंत में निराश हो कर वे अपने पिता के पास पहुँचे। उन्होंने कहा,”पिता जी ,हमने पूरा खेत खुद डाला ,पर हमें कही भी खजाना नहीं मिला।” किसान ने जवाब दिया ,”कोई बात नहीं !तुम लोगों ने खेत की बहुत अच्छी खुदाई कर दी है। अब मेरे साथ आओ ,हम इसकी बोआई करें। ”
बाप -बेटों ने कर खूब लगन से खेत की बोआई की। संयोग से उस से उस वर्ष बरसात भी समय पर बहुत अच्छी हुई। खेत में खूब पैदावार हुई। फसल पक जाने पर खेत की शुभा देखते ही बनती थी। तीनों बेटों ने बड़े गर्व से अपने पिता को लहलहाती फसल दिखाई।

किसान ने कहा,”वाह ,क्या खूब फसल हुई है !यही है वह खजाना ,जिसे मैं तुम लोगों को सौंपना चाहता था। अगर तुम लोग इसी तरह कड़ी मेहनत करते रहोगे ,तो ऐसा ही खजाना तुम्हें हर वर्ष मिलता रहेगा। ”

शिक्षा*****

|| मेहनत का फल हमेशा मीठा होते है ||

सच्चा मित्र (Education Story In Hindi)
Education Story In Hindi
Education Story In Hindi

एक दिन सुबह -सुबह दो मित्र समुद्र में नौका -विहार करने निकले। वे शांत समुद्र में नाव खेते और गपशप करते हुए जा रहे थे। देखते -ही -देखते वे किनारे से बहुत दूर गहरे समुद्र में जा पहुँचे।

तभी एकाएक आसमान में काले -काले बदल घिर आए। तूफानी हवाएँ चलने लगीं। समुद्र में ऊँची -ऊँची लहरें उठने लगीं। उनकी नाव लहरों के साथ हिचकोले खाने लगी। अब मृत्यु उनकी आँखो के सामने नाचने लगी।

इतने में सौभाग्य से उन्हें पास ही तैरता हुआ लकड़ी का एक पल्ला दिखाई पड़ा। डूबतों को जैसे तिनके का सहारा मिल गया। दोनों मित्रों ने झटपट नाव से छलाँग लगाई और तैरते -तैरते उस पल्ले को पकड़ लिया। पर यह पल्ला बहुत ही हलका था। वह दोनों का भार वहन नहीं कर सकता था।
तब एक मित्र ने दूसरे मित्र से कहा ,”देखो भाई , तुम शादीशुदा हो। तुम्हारी पत्नी है ,बच्चे हैं। उनके लिए तुम्हारा जिंदा रहना ज्यादा जरूरी है। मैं ठहरा अकेला। इसलिए मैं मर भी गया ,तो कोई हर्ज नहीं !”

शादीशुदा मित्र ने जवाब दिया ,”नहीं भाई ,तुम्हारी माँ है ,बहन है !अगर तुम मर गए ,तो उनकी देखरेख कौन करेगा ?”

“उनकी देखरेख का जिम्मा अब मैं तुम पर डाल कर जा रहा हूँ ,”कहते हुए पहले मित्र ने पल्ला छोड़ दिया। वह समुद्र में डूब कर मर गया।

शादीशुदा युवक पल्ले के सहारे तैरते -तैरते किसी तरह किनारे आ लगा। उनकी जान बच गई। वह सकुशल घर पहुँच गया। उसने अपने दिवंगत दोस्त की माँ और बहन की ज़िन्दगी भर परवरिश की।

शिक्षा*****

|| सच्चे मित्र एक-दुसरे के सुख-दुःख में सहभागी होते है ||


हम आशा करते हैं आपको हमारी आज की ये Small Hindi Story For Kids In Hindi पसंद आयी होगी. अगर आप ऐसी ही Hindi Kahaniyan और Hindi Kahani For Kids पढ़ना चाहतें हैं तो Hindilikh Website को Bookmark कर सकतें हैं या Website को Subscribe भी कर सकतें हैं. हम ऐसी ही Small Hindi Story For Kids और Moral Stories For Kids हमारी Website पर पब्लिश करते रहतें हैं. Hindi Kahani के अलावा Hindilikh Website पर आपको Ramayan Story In Hindi और Mahabharat Story In Hindi आदि भी आपको देखने को मिलेंगी आप चाहें तो इन्हें भी पढ़ सकतें हैं।