The Conjuring 3 (Movie) Real Story In Hindi

The Conjuring 3 (Movie) Real Story

हेलो दोस्तों अपने The conjuring 3 movie के बारे में तो सुना ही होगा यह फिल्म The conjuring सीरीज़ का तीसरा पार्ट है। The conjuring एक ऐसी फिल्म है जो पूरी तरह True Horror Stories पर आधारित फिल्म है।

हम सभी ने कभी ना कभी Google पर Horror movies based on true stories सर्च किया ही होगा पर अधिकतर कहानियाँ सच ना होकर बस किसी लेखक के दिमाग की उपज होती है लेकिन आज हम आपके लिए लेकर आये हैं The conjuring 3 movie real story in hindi.

The conjuring 3 movie story 80 के दशक की उस कहानी पर आधारित फिल्म है जिसने उस समय कोहराम मचा दिया था और आज भी किसी खौफनाक सच से काम नहीं है।

The Conjuring 3 Movie Real Story In Hindi

The conjuring story की यह घटना है 80 के दशक की जब एक 19 वर्षीय नौजवान में एक 40 साल के व्यक्ति का बेरहमी से कत्ल कर दिया। पुलिस ने मर्डर के मुख्य आरोपी को हिरासत में ले लिया और जब अदालत में उसका ट्रायल शुरू हुआ तो उसने अपने बचाव में दिए बयान से सबको हैरान कर दिया।

अदालत ने जब उससे पूछा गया कि क्या तुमने तुम ने ही कत्ल किया है तो उस लड़के का जवाब था “No Devil Made Me Do It” यानी “शैतान मुझसे ये करवाया”।

इस घटना की शुरुआत हुई सन 1980 में कार्ल ग्लैडज़ल उनकी पत्नी जुयूडी बेटी डेबी और उनका बेटा डेबिट ग्लैडज़ल ब्रूकफील्ड (Brookfield USA) में एक घर में शिफ्ट हुए।

ग्लैडज़ल फैमिली काफी खुश थी क्योंकि उन्हें शानदार घर बेहद कम कीमत पर मिल गया था लेकिन वह यह नहीं जानते थे कि इस कम कीमत के घर कि उन्हें एक बड़ी कीमत चुकानी अभी बाकी थी। घर में आने के कुछ ही दिनों बाद से ग्लैडज़ल फैमिली के सबसे छोटे सदस्य डेविड को घर में कुछ अजीब सा महसूस होने लगा।

उसे घर के अलग-अलग जगहों पर एक बूढ़े आदमी की आत्मा दिखाई देने लगी शुरुआत में तो डेबिट खुद भी यह समझ नहीं पाया कि उसे जो कुछ भी दिख रहा है क्या वह सच्चाई है या उसका भ्रम लेकिन कुछ ही समय में डेविड की परेशानी और भी बढ़ने लगी।

अब डेविड वह आत्मा केवल दिखाई ही नहीं देती थी बल्कि वह उससे बातें भी करने लगी थी और जब भी डेविड का सामना उस आत्मा से होता था तो उसके शरीर पर एक अजीब से घाव के निशान भी बन जाते थे। डेविड ने अपनी फैमिली को बताया कि इस घर में एक व्यक्ति है जो कि काली शर्ट और नीली जींस पहने इस घर में घूमता रहता है।

वो डेविड को बार-बार यह कहता है कि उन्हें इस घर को जल्द से जल्द खाली कर देना चाहिए लेकिन डेविड के माँ बाप को लगा की शायद डेविड नई जगह पर एडजस्ट नहीं कर पा रहा है इसलिए उसे ऐसे हेलोसिनेशन हो रहे हैं डेविड को शुरुआत में डॉक्टर को दिखाया गया लेकिन डेविड की हालत में कोई भी सुधार नहीं हुआ उसके बाद उसे पास के एक चर्च में एक पादरी से भी मिलवाया लेकिन डेविड को होने वाली अनुभूतियां अब और भी ज्यादा बढ़ने लगी थी।

डेविड को अब उस व्यक्ति की आत्मा हर समय घर में दिखाई देने लगी और कभी-कभी तो डेविड भी अजीब सी आवाज में कुछ न कुछ बड़बड़ आता हुआ पाया जाता था। रात के समय ग्लैडज़ल फैमिली को डेविड के कमरे से चीखने चिल्लाने और जोर-जोर से किसी चीज को पटकने जैसी आवाजें सुनाई देने। डेविड के पूरे शरीर पर अब चोटों के निशान दिखने लगे थे। ग्लैडज़ल फैमिली को अब लगने लगा था कि शायद वह अपने 11 वर्षीय बेटे डेविड को हमेशा के लिए खो देंगे।

अतंतः ग्लैडज़ल फैमिली ने उस समय के मशहूर पेरानोमल इन्वेस्टिगेटर एडन लोरेन वारेन की सहायता लेने का फैसला किया। साथ ही डेविड की बहन डेबी ने एक मशहूर पादरी और उनके सहयोगियों को डेविड के एक्ससोरसियम (exsorsim) के लिए बुलाया। डेबी ने अपने बॉयफ्रेंड को भी घर में रहने के लिए बुला लिया था ताकि वह डेविड की देखभाल करने में डेबी और उसकी फैमिली की मदद कर।

यह भी देखें:- वैम्पायर की रहस्यम घटनाएं

एक्ससोरसियम (exsorsim) के दौरान डेविड एक अलग रूप में दिखाई देने लगा उसकी आंखों का रंग और उसकी आवाज़ बदल सी गई और वह बेहद हिंसक होकर अपने आसपास खड़े लोगों को क्षति पहुंचाने की कोशिश करने लगा है। एडन लोरेन डेविड की पूरी फैमिली, तीन पादरी और डेबी का बॉयफ्रेंड आर्नी उस समय मौजूद थे लेकिन यह सब मिलकर भी 11 साल के बच्चे डेबिड को काबू नहीं कर पा रहे थे।

The Conjuring 3 Movie Real Story In Hindi

The Conjuring 3 Movie Real Story In Hindi
The Conjuring 3 Movie Real Story In Hindi

ऐसा लग रहा था मानो कि डेविड के शरीर में अचानक बेशुमार ताकत आ गई हो जिसे डेविड खुद भी कंट्रोल नहीं कर पा रहा था। एक्ससोरसियम (exsorsim) की प्रक्रिया के दौरान डेविड की हालत बहुत ज्यादा ज्यादा बिगड़ने। वह किसी भी वक़्त खुद को या वहाँ मौजूद अन्य लोगों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। यही डर वहां मौजूद हर इंसान के मन में था।

आर्नी से डेविड की हालत देखी नहीं गई और उसने डेबिट को जोर-जोर से झगझोड़ते हुए कहा कि अगर तुम में दम है तो मुझसे लड़ कर दिखाओ दूसरी तरफ पादरी एक्ससोरसियम (exsorsim) की प्रक्रिया को खत्म करने में लगे हुए थे। इसके कुछ ही देर बाद डेविड धीरे-धीरे शांत होने लगा और तब जाकर सभी ने चैन की सांस ली। थोड़ी ही देर बाद सब कुछ ठीक-ठाक लगने लगा डेविड को होने वाली अनुभूतियाँ अब कम हो चुकी थी।

अब सब कुछ सामान्य सा होने लगा था इसके बाद डेविड पर लगातार तीन बार एक्ससोरसियम (exsorsim) किया गया ताकि वे पूरी तरह से उस आत्मा से पा सकें। एडन लोरेन ने इस केस के बारे में बताते हुए एक इंटरव्यू में कहा था कि जब वह उस छोटे बच्चे डेविड से पहली बार मिले थे तभी जान गए थे कि डेविड पर किसी बुरी आत्मा का साया है लेकिन अपनी आगे की तफ्तीश में उन्हें पता लगा कि उस घर में एक दो नहीं बल्कि 43 आत्माएं थी और वह सभी आत्माएं डेविड के शरीर को अपना घर बना चुकी थी लेकिन उनमें से जो आत्मा सबसे शक्तिशाली थी सिर्फ वही डेविड को नजर आती थी।

एडन लोरेन अपने इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने जानबूझ जानबूझकर ग्लैडज़ल फैमिली से बात छुपाई थी की जिसे वे केवल एक आत्मा का अभिशाप समझ रहे हैं वह वास्तव में बहुत ही खतरनाक मामला है जिसमें अनेकों जान जाने की आशंका थी। इसके कुछ दिनों बाद डेबी और उसका 19 वर्षीय बॉयफ्रेंड आर्नी जॉनसन एक साथ कनाटिकट में एक मकान में रहने लगे। जहां वह मकान मालिक एलेन बोनो दोनों के कुत्ते की देखभाल भी करते थे जिसके बदले में उन्हें मकान का किराया नहीं देना पड़ता था। इस घर में आर्नी की बहन वांडा और डेबी की 9 वर्षीय कजिन मैरी भी आर्नी और डेबी के साथ वह रहा करते थे।

आर्नी अब पहले से ज्यादा शांत और गंभीर रहने लगा था वह अक्सर डेबी से यही कहता था कि उसे अपने पास एक औरत का साया महसूस होता है जो कि हमेशा ही उसे घूरती रहती है उस औरत की आंखें देख कर ऐसा लगता है कि मानो वो आर्नी को सम्मोहित करने की कोशिश करती रहती है। एक दिन जंगल में लकड़ी काटते वक्त आदमी को फिर एक बार ऐसी ही अनुभूति हुई कि मानो उस औरत का साया दूर कहीं से उसे देख रहा हूं इसके बाद आर्मी घबराकर घर वापस लौट आया।

आर्नी का मकान मालिक बोनो अक्सर शराब के नशे में धुत रहता था उस दिन भी घर का माहौल कुछ ऐसा ही था घर के सभी लोगों ने उस दिन बोनो के साथ ही लंच किया लेकिन बोनो उस दिन ही शराब के नशे के कंट्रोल से बाहर हो चुका था। उसने तेज चला कर मिलाकर सभी को डांस करने के लिए कहा लेकिन आर्नी को व्यवहार पसंद नहीं आ रहा था वही डेबी माहौल में बढ़ती टेंशन को भाप चुकी थी और वह वांडा और मैरी को पिज़्ज़ा खिलाने के बहाने से वहां से निकाल ले गयी।

यह भी देखें:- 200 आत्माओं वाला घर

लेकिन जब वे लोग वापिस घर आए तो बोनो ने मैरी को पीछे से पकड़ लिया और उसे अपने कमरे में जाने से रोकने लगा। आर्नी यह देखकर गुस्से में लाल हो उठा और अचानक आर्नी की आंखें किसी जानवर की तरह चमकने लगी और उसकी आवाज किसी राक्षस जैसी भारी और डरावनी हो गई। एक पल के लिए ऐसा लगा मानो आर्नी की राक्षस में बदल चुका हो। उसने बोनो पर एक चाकू से हमला कर दिया और उसकी छाती पर एक के बाद एक कई वार कर बोनो को पेट से लेकर छाती तक फाड़ कर रख दिया।

उसके बाद वह बिना किसी से कुछ कहे वहां से निकल गया बाद में पुलिस ने आर्नी को घटनास्थल से लगभग 6 किलोमीटर दूर गिरफ्तार किया। आर्नी की गिरफ्तारी के अगले ही दिन लोरेन वारेन आर्नी से मिलने जेल पहुंची कुछ देर आर्नी से बात करने के बाद लॉरेन ने पुलिस को बताया कि कत्ल के वक्त आर्नी पोसेस्ड था यानी आर्नी के अंदर की आत्मा का वास था जिसने आर्नी से यह कत्ल करवाया है।

इसके बाद इस घटना को उस वक्त के हर अखबार ने छापा और उस वक्त के अनेकों इंटरव्यूज में ऐड लोरेन वॉरेन ने प्रेस को यही बताया कि आर्नी इस केस में निर्दोष है क्योंकि जब यह मर्डर हुआ उसका उस वक्त आर्नी एक शैतानी आत्मा के कंट्रोल था जिसने आर्नी से यह कत्ल करवाया है। लॉरेन ने आर्नी के वकील मिनेल को भी यह विश्वास दिलाने की कोशिश की कि इस मर्डर में आर्नी का अप्रत्यक्ष रूप से कोई हाथ नहीं है।

अंततः कोर्ट में ट्रायल के दौरान इस दलील को आधार बना बनाकर आर्नी को रिहा कराने की प्रार्थना भी की गई। जज के पूछने पर कोर्ट रूम में आर्नी ने घटना को विस्तार से बताया लेकिन जब जज ने आखिर में पूछा “क्या तुमने दोनों को मारा है”, तो आर्नी ने जवाब दिया “No Devil Made Me Do It” यानी “शैतान मुझसे ये करवाया”।

इस घटना पर आधारित हाल ही में एक मूवी द कंजूरिंग 3 को फिल्मी पर्दे पर रिलीज किया गया है। जिसकी कहानी को इस घटना के इर्द-गिर्द बुना गया है। आप लोगों को अभी तक शायद यह लग रहा होगा कि आर्नी का ये बयान गुनाह से बचने का आसान तरीका हो सकता है लेकिन लॉरेन ने जब कोर्ट में डेविड पर हुयी एक्ससोरसियम (exsorsim) की ऑडियो सुनाई तो जज भी काफी हद तक अस्वस्थ हो चुके थे।

वे भी समझ चुके थे की इस केस को एक परानॉर्मल घटना के नज़रिये से भी देखे जाने की जरूरत है लेकिन कानून में परानॉर्मल घटनाओं के बिनाह पर किसी को निर्दोष घोषित करने का कोई भी प्रावधान ना होने के कारण जज आर्नी को 10 साल के कारावास की सजा सुनाई यु एस (US) इतिहास में यह पहला और इकलौता ऐसा केस था जिसमे किसी आत्मा को मुख्य आरोपी माना गया था।


हम आशा करते हैं आपको हमारी आज की ये The Conjuring 3 Movie Real Story In Hindi पसंद आयी होगी. अगर आप ऐसी ही Hindi Kahaniyan और Ghost Story In Hindi पढ़ना चाहतें हैं तो Hindilikh Website को Bookmark कर सकतें हैं या Website को Subscribe भी कर सकतें हैं. हम ऐसी ही True Horror Stories और Real Horror Story In Hindi हमारी Website पर पब्लिश करते रहतें हैं. Hindi Kahani के अलावा Hindilikh Website पर आपको Ramayan Story In Hindi और Mahabharat Story In Hindi आदि भी आपको देखने को मिलेंगी आप चाहें तो इन्हें भी पढ़ सकतें हैं।

1 thought on “The Conjuring 3 (Movie) Real Story In Hindi”

Leave a Comment